24 May 2024

A Bharat live

खबर सबसे पहले

डॉ. पांडेय ने इस अवसर पर कहा भारतीय विद्वानों ने विश्व को जो नियम दिए वे आज तक कायम हैं

1 min read

डॉ. पांडेय ने इस अवसर पर कहा भारतीय विद्वानों ने विश्व को जो नियम दिए वे आज तक का

रतलाम।15 जनवरी ज्ञान , विज्ञान और विकास में साहित्य की महत्वपूर्ण भूमिका है । वैज्ञानिक अवधारणाओं को हमारे प्राचीन विद्वानों ने काफी पहले समझा दिया था। साहित्य में भी विज्ञान का समावेश होता रहा है । कई सालों पहले तुलसीदास जी ने ‘जुग सहस्त्र योजन पर भानु’ और ‘राम रसायन’ जैसी वैज्ञानिक शब्दावली का प्रयोग अपनी काव्य अभिव्यक्ति में किया था।

यह खबर भी पड़े उज्ज्वला योजना के तहत महिलाओं को मिलेगा फ्री गैस सिलेंडर जल्दी करे आवेदन

इस दृष्टि से रचनाकार आशीष दशोतर की विज्ञान कविताएं साहित्य में ही नहीं , विज्ञान में भी अपना महत्वपूर्ण स्थान रखती है।यह विचार जावरा विधायक डॉ. राजेंद्र पांडेय ने रचनाकार आशीष दशोत्तर की विज्ञान कविताओं समाविष्ट काव्य संग्रह ‘तुम भी?’ का विमोचन करते हुए व्यक्त किए। आयोजन में शासकीय कला विज्ञान महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. वाय. के .मिश्रा, शासकीय कन्या महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. आर.के. कटारे, इंदौर महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य प्रो. पी.के. दुबे, जिला शिक्षा अधिकारी के.सी. शर्मा, जिला विज्ञान अधिकारी जितेंद्र जोशी भी मौजूद थे।डॉ. पांडेय ने इस अवसर पर कहा कि प्राचीन काल में विज्ञान के सिद्धांत साधना और अनुभव के आधार पर दिए जाते थे

यह खबर भी पड़े राजस्व महाभियान सैलाना अनुभाग की समस्त तहसीलों में आज से प्रारंभ

। भारतीय विद्वानों ने विश्व को जो नियम दिए वे आज तक कायम हैं। आज साधना का स्थान साधन ने ले लिया है। आज के प्रयोग और विज्ञान के सिद्धांत साधन के आधार पर सिद्ध हो रहे हैं । इन सब के साथ साहित्य के माध्यम से भी विज्ञान की अवधारणाओं को समाज के सामने लाया जा रहा है । यह महत्वपूर्ण है । इसी से सामाजिक चेतना और वैज्ञानिक दृष्टिकोण को जनता के बीच में पहुंचाया जा सकता है। इस अवसर पर अतिथियों ने पुस्तक का विमोचन किया तथा रचनाकार को शुभकामनाएं प्रदान की। कार्यक्रम में सुधिजन मौजूद थे।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े
Telegram channel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x