19 May 2024

A Bharat live

खबर सबसे पहले

अंजुमन इस्लाम कमेटी के तत्वावधान में 25 फरवरी को मुसलमान शब बेदारी करके श्रद्धापूर्वक परम्परागत ढंग से मनायेंगे शब-ए-बारात में मस्जिदों, होंगी सामूहिक दुआऐं

1 min read

अंजुमन इस्लाम कमेटी के तत्वावधान में 25 फरवरी को मुसलमान शब बेदारी करके श्रद्धापूर्वक परम्परागत ढंग से मनायेंगे शब-ए-बारात में मस्जिदों, होंगी सामूहिक दुआऐं

 

पवित्र इस्लामी पर्व शब-ए-बारात अकीदत के साथ अकोदिया में श्रद्धा एवं भक्तिपूर्ण माहौल में परम्परागत ढंग से अंजुमन इस्लाम कमेटी की क़यादत में अकोदिया और देश दुनिया के मुसलमानों द्वारा भी 25 फरवरी 2024 को मनाया जाएगा। सभी मस्जिदों, ख़ानक़ाहों, दरग़ाहों, इमामबाड़ों, कब्रस्तानों में जाकर लोग फ़ातेहाख़्वानी कर इबादत करेंगे तथा विश्व शांति सदभाव के साथ-साथ देश की खुशहाली ,तरक्की के लिए खुसूसी विशेष दुआऐं भी की जायेंगी।

यह खबर भी पड़े : Onion export: विदेशों में फिर धूम मचाएगा प्याज , केंद्र सरकार ने प्याज पर लगे बैन को हटाया 

कमेटी के उपसदर पप्पू मोलाना रफीक ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि शब-ए-बारात पर रात में सभी मुस्लिम बंदे अनेक मस्जिदों और अपने घरों में शब-बेदारी रतजगा कर इबादत करेंगे और दरग़ाहों ,क़ब्रस्तानों में जाकर अपने पूर्वजों एवं परिजनों की कब्रों पर दरूद फ़ातेहा पढ़ेंगे और वहाँ से लौटकर अपने-अपने मोहल्लों की मस्जिदों में ख़ुसूसी इबादत करने सहित नफ़िल नमाज़ें (विशेष नमाज़) और कुरान पाक पढ़ेगे। शब-ए-बारात में अनेक मुस्लिम पुरूष सारी रात ज़िकरे इलाही , नफलें पढ़ कर इबादत करेंगे और महिलाऐं और बच्चे भी घरों में दरूद पाक, कुरआन पाक की तिलावत कर इबादत करेंगे और यह सिलसिला अलसुबह तक जारी रहेगा। अनेक घरों में सेहरी,अफ्तारी और रोज़ा रखने का भी एहतेमाम किया जाएगा।

यह खबर भी पड़े : Ratlam खाद्य सुरक्षा अधिकारियों ने खाद्य पदार्थों के नमूने लिए गए

शबे बारात की फ़ज़ीलत के बारे में सहर काजी मोलाना उस्मान साहब ने बताया कि इस्लामी ऐतिहासिक मत के अनुसार शब-ए-बारात फ़ैसलों की रात मानी जाती है। इस रात में अल्लाह पाक हर व्यक्ति की दुआ को कु़बूल फरमाता है और उसके गुनाहों को माफ़ कर देता है, जो व्यक्ति भी अल्लाह पाक से जो कुछ भी मांगता है, उसे इस रात में मिल ही जाता है। यह भी बताया जाता है कि इस रात में फ़रिश्ते दुनिया के सभी बन्दों का साल भर का आमालनामा यानी लेखा-जोखा भी अल्लाह पाक़ के समक्ष पेश करते हैं, जिस पर अल्लाह पाक़ अपनी कुदरत से फ़ैसले फ़रमाता है और बंदो को खुशहाली, तंदरूस्ती और इनाम, दौलत, सेहत की नेमतों, रहमतों से नवाज़ता है।

 

उन्होंने बताया कि शब-ए-बारात के मौके़ पर देश भर के करोड़ों मुस्लिम लोगों द्वारा अक़ीदत और ईमान के साथ इस साल भी यहॉं इस पर्व को परम्परागत ढंग से मनाते हुए अपने घरों में मीठा हलवा, खीर, मिठाई इत्यादि पक़वान बनाकर ग़रीबों, भूखों, मोहताज़ों, दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि शहर की अनेक मस्जिदो, ख़ानक़ाहों,दरग़ाहों, इमामबाड़ों पर रोशनी चिरागां भी किया जाएगा तथा ग़रीबो,मोहताजों को मस्जिदों, दरग़ाहों, इमामबाड़ों और कब्रस्तानों पर गरीबों को ख़ैरात भी बांटी जायेगी। जब कि रात भर इबादत करने के बाद सुबह वापस अपने-अपने घरों पर लौटेंग ने सभी प्रदेशवासियों से शबे बारात का परमपरागत त्यौहार अक़ीदत के साथ सद्वभावपूर्वक मनाने की अपील की है।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े
Telegram channel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x