Paytm को लेकर आई बड़ी खबर, कंपनी के शेयर्स पर पड़ी सबकी नजर, 5% की जगह 10% का लगा अपर सर्किट

Paytm को लेकर आई बड़ी खबर, कंपनी के शेयर्स पर पड़ी सबकी नजर, 5% की जगह 10% का लगा अपर सर्किट नमस्कार दोस्तों, आज के हमारे इस आर्टिकल में आपका स्वागत हैं, दोस्तों डिजिटल पेमेंट और फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी Paytm को लेकर बड़ा अपडेट आया है। इस अपडेट के बाद Paytm की पैरेंट कंपनी One97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड के शेयरों में तूफानी तेजी देखने को मिल रही है। कंपनी के शेयरों में शुक्रवार, 7 जून को 10 प्रतिशत की शानदार तेजी आई हैं।

कंपनी के शेयरों में यह तेजी ऐसे दिन आई है, जब उसके अपर सर्किट लिमिट को पहले के 5 प्रतिशत से बढ़ाकर 10 प्रतिशत कर दिया गया है। कंपनी के शेयर शुक्रवार को करीब 10 प्रतिशत की तेजी के साथ नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में 381.30 रुपये पर पहुंच गए हैं। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) ने कहा कि पेटीएम के प्राइस बैंड को बदल दिया गया है, जो 7 जून 2024 से प्रभावी हो गया है।

यह भी पढ़ें :- Kangana Ranaut News :- कंगना रनौत को थप्पड़ मारने पर कुलविंदर कौर की मां ने कही यह बात, जानिए क्या कहा ऐसा

बता दें कि Paytm के शेयरों की सर्किट सीमा को हाल ही में 10 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया था. यह कदम Paytm Payments Bank (PPBL) पर RBI की ओर से हुए एक एक्शन के बाद उठाया गया था।

हाल ही में सर्किट लिमिट को घटाकर 5 फीसदी कर दिया गया था

केंद्रीय बैंक ने अलग-अलग रेगुलेटरी निर्देशों का पालन नहीं करने को लेकर पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर प्रतिबंध लगाए थे. इसके बाद पेटीएम के शेयरों में भारी उठापटक देखने को मिला था, जिसके देखते हुए एक्सचेजों ने इसके शेयर सर्किट लिमिट को घटाकर 5 फीसदी कर दिया था.

सर्किट लिमिट को तय करते हैं स्टॉक एक्सचेंज

गौरतलब है कि किसी भी शेयर की सर्किट लिमिट को स्टॉक एक्सचेंज तय करते हैं. ऐसा किसी भी स्टॉक में भारी उतार-चढ़ाव को रोकने के मकसद से किया जाता है.

यह भी पढ़ें :- PM Kisan Smman Nidhi Yojana : इस तारीख को खाते में डलेगी किसान सम्मान निधि की 17 वीं किस्त, जानिए पूरी जानकारी

क्या होता है शेयर मार्केट में लोअर सर्किट और अपर सर्किट

किसी भी शेयर बाजार में 2 तरह के सर्किट लगते हैं. पहला है अपर सर्किट और दूसरा है लोअर सर्किट. कई बार किसी कंपनी के शेयर तेजी से गिरते जाते हैं. ऐसे में उस शेयर में बहुत ज्यादा गिरावट ना आए, इसके लिए अपर सर्किट लगाया जाता है. कभी-कभी किसी कंपनी में निवेशकों की रूचि बढ़ जाती है. ऐसे में उस कंपनी के शेयर का दाम आसमान छूने लगता है. ऐसे में अपर सर्किट का प्रावधान है।

Disclaimer :- आज के आर्टिकल में दी गई सम्पूर्ण जानकारी हमने सोशल मीडिया के माध्यम से ली गई हैं, अगर इसमें किसी प्रकार कि त्रुटि पाई जाती हैं तो इसमें abharatlive.com की कोई जवाबदारी नहीं रहेगी।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े
Telegram channel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x